Menu

जीरा उत्पादन 50 लाख बोरी


ऊँझा। जीरे में इस समय लिवाल और बिकवाल दोनों सीमित बने हुए हैं। नई आवक को देख पिछले 8/10 दिनों में कीमत नरम पड़ी है, अब जल्द गिरावट की संभावना दिखाई नहीं दे रही है।
होली पर्व के पश्चात गिरावट आने के आसार दिखाई दे रहे हैं क्योंकि उत्पादक क्षेत्रों में मौसम ऐसा बना हुआ है कि जल्द आवक का दबाव नहीं बनेगा। इस समय ऊँझा में नये जीरे की आवक 3000 बोरी के लगभग पहुंच चुकी है। पुराने माल की आवक 1500/1600 बोरी के लगभग है। इसलिए कुल आवक 5000/5200 बोरी है। इस आवक पर व्यापार 3200/3800 रुपये प्रति 20 किलो पर हो रहा है।
व्यापारिक सूत्रों के अनुसार इस वर्ष जीरे की बिजाई देशभर में पिछले वर्ष के मुकाबले कहीं पर बेहतर और कहीं पर सीमित मात्रा में बताई जा रही है। इस समय प्राप्त समाचारों से उत्पादन 50/52 लाख बोरी होने का अनुमार है इसलिए आवक का दबाव उत्पादक क्षेत्रों की मंडियों में बनना शेष है। आवक का दबाव बनने पर भाव 2600/3200 रुपये प्रति 20 किलो पर आने के आसार हैं।