Menu

लालमिर्च की लाली गायब


गुण्टूर। लालमिर्च की आवक उत्पादक क्षेत्रों की मंडियों में बढ़ने के कारण लिवाली का अभाव देखा जा रहा है इसलिए उतार—चढ़ाव के बीच कीमत में गिरावट के आसार बने हुए हैं। इस वर्ष देश में लालमिर्च की फसल पिछले वर्ष के मुकाबले अधिक बताई जा रही है। आंध्र प्रदेश की फसल को मौसम का सहयोग अधिकांश दिनों तक मिला है इसलिए उत्पादकता भी बढ़ने के आसार व्यक्त हो रहे हैं। आंध्र प्रदेश में लालमिर्च का उत्पादन गत वर्ष से कोई 15 प्रतिशत अधिक बता रहा है और कोई 20 प्रतिशत अधिक आने की संभावना व्यक्त कर रहा है। इसलिए आगामी दिनों मंदी के डर से खरीदार गायब होने लगा है। बिक्री का दबाव और ग्राहकी के अभाव से लालमिर्च की लाली अभी फीकी पड़ने की आशंका दिखाई दे रही है। कीमत में अभी कितनी गिरावट आएगी यह पूरी तरह से भविष्य के गर्भ में छिपा हुआ है। फिर भी अधिकांश कारोबारी कीमत में 10/15 रुपये प्रति किलो की गिरावट आने के आसार व्यक्त कर रहे हैं।